हरियाणा में पंचायत चुनाव होंगे 24 फरवरी से पहले, आयोग ने तैयारियां शुरू कीं

चंडीगढ़। हरियाणा में पंचायत चुनावों को लेकर स्थिति साफ होने लगी है। नए साल की शुरुआत में चुनाव होंगे। 24 फरवरी से पहले चुनाव प्रक्रिया पूरी करा ली जाएगी। जिला परिषदों, पंचायत समितियों और पंच-सरपंचों के चुनाव की तैयारी में राज्य चुनाव आयोग जुट गया है।

Panchayat elections in Haryana to be held before 24 February, commission started preparations

Chandigarh. The situation is becoming clearer in Haryana regarding panchayat elections. Elections will be held at the beginning of the new year. The election process will be completed before February 24. The State Election Commission has gathered in preparation for the election of district councils, panchayat committees and panch-sarpanches.

हरियाणा की 22 जिला परिषदों, 142 ब्लाक समितियों और 6205 पंचायतों के पंच-सरपंचों के लिए चुनाव होने हैं। जिला परिषदों के 416 सदस्यों, ब्लाक समितियों के तीन हजार दो सदस्यों और 6205 सरपंचों के लिए चुनाव इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के जरिये होंगे, जबकि 62 हजार 466 पंचों के लिए मतदान बैलेट पेपर के जरिये होगा।

जिला परिषदों और ब्लाक समितियों के प्रधान इस बार भी अप्रत्यक्ष चुनावों के तहत चुने जाएंगे। यानी कि जनता मतदान के जरिये पार्षद चुनेगी और यह पार्षद नगर परिषद का प्रधान। मेयरों की तर्ज पर नगर परिषद के चेयरमैन के चुनाव का मामला फिलहाल लटक गया है।

राज्य चुनाव आयोग ने 20 जिलों के उपायुक्तों को 30 अक्टूबर तक मौजूदा वार्डबंदी के आधार पर सभी पंचायती राज संस्थाओं की मतदाता सूची तैयार करने का निर्देश दिया है। पानीपत और रोहतक में मतदाता सूचियों का अंतिम प्रकाशन 27 नवंबर को होगा।

गौरतलब है कि अधिकतर जिलों में सरपंच और पंच के लिए सीट आरक्षित करने के लिए ड्रा निकाले जा चुके थे। इसी बीच पंचायती राज संस्थाओं में महिलाओं को 50 फीसद आरक्षण की व्यवस्था के चलते पिछले दिनों विकास एवं पंचायत विभाग के प्रधान सचिव ने नए सिरे से आरक्षण की नीति तय करने के निर्देश जारी कर दिए। पंचायती राज आरक्षण एक्ट में बदलाव के बाद जिन जिलों में सीट आवंटन हेतु ड्रा हो चुका है, वहां ड्रा की प्रक्रिया दोबारा होगी।

पंचायती राज संस्थाओं के साथ ही स्थानीय निकायों के चुनाव की तैयारी भी जोर-शोर से चल रही है। प्रदेश में अंबाला, पंचकूला और सोनीपत नगर निगम, रेवाड़ी नगर परिषद के साथ ही हिसार के बास, सिसाय और उकलाना, रेवाड़ी की धारूहेड़ा, रोहतक की सांपला, कुरुक्षेत्र की इस्माइलाबाद व यमुनानगर की सढौरा नगर पालिका के चुनाव होने हैं।

इसके अलावा फतेहाबाद नगर परिषद के वार्ड नंबर 14 और नगर पालिकाओं के नौ वार्डों के लिए उपचुनाव होंगे। इनमें सफीदों (जींद) का वार्ड नंबर नौ, इंद्री (करनाल) का वार्ड सात, अटेली मंडी (महेंद्रगढ़) के वार्ड तीन, चार, सात, आठ व नौ, राजौंद (कैथल) के वार्ड 12 और भूना (फतेहाबाद) के वार्ड 13 शामिल हैं। स्थानीय निकायों के लिए वार्ड अनुसार मतदाता सूचियों का अंतिम प्रकाशन 27 नवंबर को कर दिया जाएगा।

राज्य निर्वाचन आयुक्त दलीप सिंह का कहना है कि प्रदेश में फरवरी 2016 में पंचायत चुनाव हुए थे। इस तरह पंचायती राज संस्थाओं के कार्यकाल के पांच साल पूरे होने जा रहे हैं। संवैधानिक नियमों के अनुसार 24 फरवरी से पहले चुनाव कराना जरूरी है। मतदाता सूचियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है और अगले महीने यह काम पूरा हो जाएगा। चुनाव संबंधी अन्य तैयारी पूरी होते ही मतदान की तिथियों की घोषणा कर दी जाएगी।

Related posts

Leave a Comment