हरियाणाः रेल कारिडोर के लिए जमीन अधिग्रहण शुरू, विकास को लगेंगे पंख

मानेसर। कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेस-वे के साथ प्रस्तावित हरियाणा आर्बिटल रेल कारिडोर के लिए जमीन अधिग्रहण का कार्य शुरू हो गया है। इसके लिए रेल मंत्रालय की तरफ से नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया अभी पलवल और गुरुग्राम जिले में शुरू हुई है। जल्द ही अन्य जिलों में भी प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

Haryana: Land acquisition begins for rail corridor, development will get wings

Manesar. Land acquisition for the proposed Haryana Arbital Rail Corridor along with the Kundli-Manesar-Palwal Expressway has started. For this, a notification has been issued by the Ministry of Railways. The process of land acquisition has just started in Palwal and Gurugram district. Soon the process will be started in other districts as well.

इस प्रोजेक्ट के शुरू होने से औद्योगिक क्षेत्र के विकास को पंख लगेंगे और गुरुग्राम व आसपास के क्षेत्र में काफी लाभ होगा।

औद्योगिक दृष्टि से यह रेल लाइन प्रदेश के उद्योगों के लिए वरदान साबित होगी।

इस प्रोजेक्ट से प्रदेश के लगभग सभी औद्योगिक क्षेत्र रेलवे लाइन से जुड़ जाएंगे और व्यापार के लिए बड़े विकल्प खुलेंगे।

रेल प्रोजेक्ट को ट्रांसपोर्ट की नजर से इसलिए देखा जा रहा है क्योंकि रेल ट्रांसपोर्ट सड़क ट्रांसपोर्ट से काफी सस्ता होता है।

इस प्रोजेक्ट को निजी क्षेत्र की भागीदारी से भी विकसित किया जा रहा है। इससे उद्योगों पर ट्रांसपोर्ट का खर्च कम होगा और तैयार माल आसानी से गंतव्य तक पहुंचाया जा सकेगा।

कारिडोर तैयार होने से व्यापार करने का क्षेत्र भी बढ़ जाएगा।

इसके अलावा मानेसर भी रेलमार्ग से जुड़ जाएगा।

मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड कंपनी के साथ रिलायंस कंपनी की साझेदारी भी इस प्रोजेक्ट में है।

केएमपी एक्सप्रेस-वे साथ प्रस्तावित रेल प्रोजेक्ट के पास ही मारुति कंपनी का मानेसर प्लांट है और रिलायंस कंपनी की हजारों एकड़ जमीन इसके साथ में है।

इस प्रोजेक्ट को भविष्य में विकास के रास्ते खोलने वाले प्रोजेक्ट के रूप में भी देखा जा रहा है।

मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड से रोजाना काफी बड़े ट्राले तैयार माल को फरुखनगर तक पहुंचाते हैं।

इस प्रोजेक्ट से यहीं से तैयार माल दूसरे शहरों में पहुंचाया जा सकेगा। इससे ट्रांसपोर्ट के खर्च में काफी कमी आएगी।

केएमपी एक्सप्रेस वे के साथ-साथ सोनीपत के हरसाना से पलवल के असावटी तक रेल लाइन कारिडोर बनाया जाएगा।

इसे सोहना, मानेसर, फरुखनगर, बहादुरगढ़ और सोनीपत को भी रेल से जोड़ा जाएगा।

आइएमटी इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के अध्यक्ष पवन यादव के अनुसार  यह नेटवर्क तैयार होने से हरियाणा के उद्यमियों को मुंबई, कोलकाता, गुजरात और दक्षिण भारत तक व्यापार करने में आसानी होगी। दोहरी रेल लाइन बिछाई जाने से एचएसआइआइडीसी द्वारा तैयार किया गया ट्रांसपोर्ट नगर और वेयरहाउस हब भी औद्योगिक क्षेत्र से जुड़ जाएगा।

उन्होंने कहा कि अभी तक मानेसर से केवल सड़क परिवहन के माध्यम से ही ट्रांसपोर्ट किया जा रहा है। यह काफी महंगा भी साबित होता है। सड़क परिवहन के कई नुकसान भी उद्यमियों को होते हैं। यह प्रोजेक्ट क्षेत्र के साथ प्रदेश के भविष्य को एक नई दिशा देगा। सभी औद्योगिक क्षेत्र आपस में रेलमार्ग से जुड़ने से व्यापार करने में काफी आसानी हो जाएगी। मानेसर के भविष्य के लिए यह बेहतर प्रोजेक्ट साबित होगा।

 

Related posts

Leave a Comment