हरियाणाः क्रिएटिव रिज्यूमे इतना जबरदस्त, 10 कंपनियों में हुआ सिलेक्शन, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में हुआ दर्ज, सीएम ने दी बधाई

रोहतक। ‘‘होनहार बिरवान के होत चिकने पात’’ की कहावत को चरितार्थ करते हुए रोहतक की एकता कॉलोनी के रहने वाले राहुल शर्मा ने लॉक डाउन में नौकरी छूट जाने के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के एक बयान से से प्रेरित होकर एक नया रिकॉर्ड बना दिया। उन्होंने एक ऐसा रिज्यूमे तैयार किया, जिससे न केवल 10 कंपनियों में उनका सिलेक्शन हुआ, बल्कि उनका रिज्यूमे इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में भी दर्ज हो गया है।

Haryana: Creative resume so tremendous, selection made in 10 companies, recorded in India Book of Records, CM congratulates

Rohtak. Rahul Sharma, a resident of Ekta Colony, Rohtak, created a new record inspired by a statement by Chief Minister Manohar Lal Khattar after he lost his job in lock down. He created a résumé that not only got him selected in 10 companies, but his resume is also recorded in the India Book of Records.

राहुल शर्मा नेएडा की एक मल्टीनेशनल कम्पनी में काम करते थे।

वे कोरोना लॉक डाउन के चलते नौकरी छूट जाने के कारण परेशान थे।

लॉक डाउन की शुरुआत में जब मुख्यमंत्री खट्टर ने युवाओं को समय का सदुपयोग कर अपने हुनर को बढ़ाने के लिए प्रेरित किया, तो राहुल शर्मा ने नौकरी ढूंढने के लिए एक क्रिएटिव मैगजीन रिज्यूमे बना डाला।

इस रिज्यूमें के बलबूते मल्टीनेशनल कंपनी में साक्षात्कार देते रहे और 8-10 कम्पनी में सेलेक्ट भी हो गए।

इसके बाद उन्होंने इतिहास रच दिया और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज करा लिया।

रिकॉर्ड स्थापित करने पर इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स की ओर से उन्हें प्रशंसा पत्र एवं एक गोल्ड मेडल देकर सम्मानित किया गया है।

राहुल शर्मा इसके लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी और अपने पुरानी कम्पनी के प्रोजेक्ट मैनजेर विशेष श्रीवास्तव को क्रेडिट देते हैं, जिन्होंने कठिन समय में हार ना मानने की सलाह देते हुए मार्गदर्शन किया।

आज हरियाणा के पूर्व सहकारिता मंत्री मनीष ग्रोवर ने राहुल शर्मा की इस कामयाबी को सराहते हुए उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया और शुभकामनायें दीं

उन्होंने कहा कि हरियाणा का युवा कौशल एवं हुनर से परिपूर्ण है।

इसके पहले भी राहुल शर्मा कोरोना काल में सबसे अधिक योगदान हेतु मनीष कुमार ग्रोवर को खुद से बनाई गयी चिन्ह स्मृति भेंट कर चुके हैं, जिसे पूर्व मंत्री द्वारा काफी पसंद किया गया और सोशल मीडिया पर साझा करते हुए आभार प्रकट किया था।

पहली बार इतना सूंदर रिज्यूमे देखा

राहुल शर्मा के रिज्यूमे को इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्डस के सदस्य देखकर प्रभावित हुए और कहा कि पहली बार इतना सूंदर रिज्यूमे देखा है, जिसमें शब्दों की बजाय फोटो पर काम किया गया है। इसे देखकर पढ़ने की बजाय देखने में अच्छा लग रहा है।

कुछ ऐसा है रिज्यूमे

वर्णीय है कि रिज्यूमे अक्सर 2 या 3 पेज का होता है और आजकल रिज्यूमे को पढ़ना काफी बोरिंग लगता है।

राहुल शर्मा ने 21 पेज का रिज्यूमे कुछ ऐसा बनाया जिसे पहली बार में देखने में ही मैगजीन पढ़ने जैसा आनंद आता है।

राहुल शर्मा एक और रिकॉर्ड का दावा करने जा रहे हैं, जिसमें उन्होंने कक्षा 9 से मास्टर डिग्री एमबीए तक का सफर बिना किसी फीस के अपने बलबूते पर किया।

Related posts

Leave a Comment