फरीदाबादः तिगांव के पूर्व प्रत्याशी पर बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग, मौत, फाईनेंस प्रोपर्टी का काम हो सकता है वारदात की वजह

फरीदाबाद। यहां सेक्टर सेक्टर 31 के पास आज बुधवार को कुछ अज्ञात कार सवार बदमाशों ने तिगांव विधानसभा के लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के पूर्व प्रत्याशी मनोज भाटी की अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी।

Faridabad: Former Tigan candidate shot by unknown miscreants, killed, finance-property may be the cause of a crime

Faridabad. Here Manoj Bhati, former candidate of Democracy Security Party of Tigwan assembly, was shot dead by some unknown car-riding miscreants near Sector Sector 31.

प्राप्त सूचना के अनुसार अमीपुर गांव निवासी मनोज भाटी दोपहर लगभग डेढ़ बजे अपनी फार्च्यूनर कार पर जा रहे थे।

सेक्टर 31 के श्रमिक विहार क्षेत्र के पास दो कारों पर सवार कुछ बदमाशों ने मनोज भाटी की कार को घेरकर लिया।

मनोज भाटी को बदमाशों से घिरने की भनक लगी, तो उन्होंने अपनी स्कोर्पियो गाड़ी भगाने का प्रयास किया।

उनकी कार इस प्रयास में संकरी गलियों वाले कालोनी एरिया में घुस गई।

दुर्योगवश उनक कार के नीचे एक बाइक आ गई और उनकी कार रुक गई।

बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायर की।

बताया जा रहा है कि बदमशों ने लगभग 9 राउंड फायर किए।

इससे उनके प्रोफेशनल शूटर होने का अंदाजा लगाया जा रहा है।

हत्या के पीछे किसी गैंग का भी हाथ हो सकता है।

फायरिंग में मनोज भाटी लहूलुहान हो गए।

बदमाशों ने बाद में कार से उतरकर इस बात की तसल्ली की है कि मनोज कहीं जिंदा तो नहीं है।

बदमाश मनोज भाटी को अपनी ओर से मरा समझकर अपनी कारों में फरार हो गए।

क्षेत्रीय थाना प्रभारी संदीप के अनुसार जब सूचना मिलने पर वे मौके पर पहुंचे, तो मनोज गाड़ी में ही थे और उसे कई गोलियां लगी थीं। पुलिस घायल मनोज को अस्पताल ले गई, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

उन्होंने बताया कि हत्या के कारणों का जांच-पड़ताल से खुलासा होगा। फिलहाल पुलिस की कई टीमें हत्यारों का सुराग लगाने का प्रयास कर रही हैं। हत्यारे कोरोला और फार्च्यूनर कारों में सवार होकर आए थे।

एसएचओ का दावा है कि जल्दी ही हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

शव को पोस्टमार्टम के लिए बादशाह खान अस्पताल पहुंचा दिया गया है।

सूचना मिलने के बाद इलाके में सनसनी फैल गई और अमीपुर सहित अन्य गांवों के दर्जनों लोग बीके अस्पताल पहुंच गए हैं।

मनोज भाटी के परिजन अभी सदमे में है और उन्होंने अभी तक किसी पर संदेह जाहिर नहीं किया है।

हो सकता है कि मनोज के परिजन कुछ आंतरिक सूचना मिलने पर कुछ लोगों पर संदेह जाहिर करें।

इसलिए पुलिस अभी अपने स्तर पर ही जांच कर रही है।

सूचना मिलने पर एसीपी क्राइम अनिल यादव और एससीपी मौजीराम और कई अपराध विशेषज्ञ मौके पर पहुंच गए।

फारेंसिक एक्सपर्ट्स ने मौका-ए-वारदात से कई तरह के साक्ष्य एकत्रित किए हैं।

फाइनेंस और प्रोपर्टी का काम

पुलिस सूत्रों ने आशंका जताई है। मनोज भाटी का फाइनेंस और प्रोपर्टी का काम है। धंधे में किसी विवाद के कारण ही उनकी हत्या की गई होगी। बाकी छानबीन से असली तथ्यों का पता चलेगा।

कई सुराग मिले

सूत्रों का कहना है कि पुलिस ने कुछ सीसीटीवी फुटैज बरामद किए हैं।

फुटैज से मिले सुरागों के आधार पर पुलिस दबिश दे रही है।

पुलिस को बदमाशों की कारों के नंबर भी मिल चुके हैं।

उसके आधार पर भी छानबीन की जा रही है।

मनोज किसी दोस्त से मिलने गए थे

सूत्रों के अनुसार मनोज भाटी की योजनाबद्ध तरीके से हत्या की गई है।

मनोज किसी प्रोपर्टी डीलर दोस्त से मिलने गए हुए थे।

जैसे ही वे दोस्त से मिलकर वहां से रवाना हुआ, तो संभवतः बदमाशों ने उनका पीछा करना शुरू कर दिया होगा।

यानि बदमाशों को पहले से ही दोस्त से मिलने की खबर होने की संभावना है।

 

 

 

 

Related posts

Leave a Comment