महंगाई से परेशान जनता पर बिजली सिक्योरिटी अन्याय है: विजय प्रताप सिंह

फरीदाबाद। बडखल विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेसी नेता कुंवर विजय प्रताप सिंह ने हाउस टैक्स, पैट्रोल-डीजल के बढ़े हुए दामों, आम जरूरत की चीजों पर महंगाई की मार के बाद अब बिजली बिलों के साथ सिक्योरिटी लेने के नाम पर आम जनता के साथ की जा रही लूट को लेकर भाजपा सरकार को आड़े हाथों लिया।

Electricity security is an injustice to the people troubled by inflation: Vijay Pratap Singh

उन्होंने कहा कि औद्योगिक क्षेत्र में एक साल पहले ही इस व्यवस्था को थोपा गया और अब आम नागारिकों पर बिजली बिलों के साथ सिक्योरिटी लेने के नाम पर आम जनता को लूटा जा रहा है।

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी की मार से पहले से ही काम-धंधों से हाथ धो बैठे लोगों को मारने का काम प्रदेश की भाजपा सरकार कर रही है। आज तक इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ कि बिजली बिलों का अग्रिम भुगतान उपभोक्ताओं से वसूला जाए।

विजय प्रताप ने कहा कि शहर के लोग तो सरकार की 2 महीने में बिल भेजने की पॉलिसी का ही विरोध कर रहे थे, ताकि उन पर अतिरिक्त सरचार्ज न लगे। मगर, हरियाणा सरकार ने ऐसा न करते हुए राज्य विद्युत नियामक बोर्ड का हवाला देकर जनता से अग्रिम भुगतान मांग लिया है। जबकि बिजली विभाग के ऑडिट के लिए बोर्ड की सिफारिशों को नहीं माना जा रहा है पिछले 3 सालों से बिजली महकमे का ऑडिट नहीं हुआ है।

उन्होंने ने कहा कि हरियाणा का बिजली विभाग अनियमितताओं का पिटारा बनकर रह गया है। आज शहर का हर व्यक्ति बिजली के बिलों एवं सरकार की नीतियों से प्रताड़ित है। एक तरफ तो आम जनता को 6-6 महीने बिल नहीं दिए जाते, वहीं दूसरी तरफ इकट्ठा बिल भेजकर लोगों की कमर तोडने का काम किया जाता है। गलती विभागीय कर्मचारियों व बिजली निगम द्वारा हायर की गई निजी एजेन्सियों की है, मगर बिजली दफ्तर के चक्कर आम उपभोक्ता को ही काटने पड़ते हैं।

विजय प्रताप ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार बिजली निगम का निजीकरण करना चाहती है, इसलिए उपभोक्ताओं को प्रताडित किया जा रहा है, ताकि वो तंग आकर निजीकरण का सहज रूप से स्वीकार कर लें।

उन्होंने बिलों का अग्रिम भुगतान मांगे जाने का विरोध किया और कहा कि सरकार की इस पॉलिसी के खिलाफ बिजली निगम कार्यालयों का घेराव करेंगे और सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा।

Related posts

Leave a Comment