• हुडा एन्हांसमेंट में बड़ी राहत, 40 फीसदी की छूट की घोषणाRead More
  • पर्यावरण मंत्री का शहर बना दुनिया का सबसे दूसरा गंदा शहरRead More
  • चाची ने रेप करने वाले भतीजे का काटा गुप्तांग Read More
  • मोदी मैजिक: त्रिपुरा और नागालैंड में बनेंगी भाजपा की सरकारें Read More
  • होली का हुड़दंग भारी पड़ा, 150 पहुंचे अस्पताल Read More

भूविज्ञानियों का दावा: भारत-श्रीलंका के बीच रामसेतु 7000 साल पुराना है

नई दिल्ली। भूविज्ञानियों का दावा: भारत-श्रीलंका के बीच रामसेतु 7000 साल पुराना – रामसेतु के अस्तित्व को लेकर अक्सर बहस होती रहती है। हिंदूवादी संगठन जहां दावा करते हैं कि यह वही रामसेतु है, जिसका जिक्र रामायण और रामचरितमानस में है, वहीं एक पक्ष ऐसा भी है जो इसे केवल एक मिथ या कल्पना करार देता है। साल 2007 में रामसेतु के मुद्दे पर कांग्रेस सरकार के सुप्रीम कोर्ट में दिए हलफनामे से एक बड़ा राजनीतिक बवाल तक खड़ा हो गया था।

भूविज्ञानियों का दावा: भारत-श्रीलंका के बीच रामसेतु 7000 साल पुराना

हालांकि अब एक साइंस चैनल ने तथ्यों के साथ दावा किया है कि रामसेतु पूरी तरह कोरी कल्पना नहीं हो सकता है, क्योंकि इस बात के प्रमाण हैं कि भारत और श्री लंका के बीच स्थित इस बलुई रेखा पर मौजूद पत्थर करीब 7000 साल पुराने हैं।

रामसेतु के पत्थर बिल्कुल अलग और बेहद प्राचीन

साइंस चैनल ने सोमवार को एक विडियो ट्विटर पर डाला, जो देखते ही देखते भारत में वायरल हो गया। विडियो में कुछ भूविज्ञानियों और वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि रामसेतु पर पाए जाने वाले पत्थर बिल्कुल अलग और बेहद प्राचीन हैं।

पत्थर कहीं और से लाए गए

भूविज्ञानी ऐलन लेस्टर के मुताबिक, ‘हिंदू धर्म में भगवान राम द्वारा ऐसे ही एक सेतु के निर्माण का जिक्र है। इस पर शोध करने पर पता चला कि बलुई धरातल पर मौजूद ये पत्थर कहीं और से लाए गए हैं।’ हालांकि ये पत्थर कहां से और कैसे आए, यह आज भी एक रहस्य है।

पत्थर करीब 7000 साल पुराने

पुरातत्वविद चेल्सी रोज़ कहती हैं, ‘जब हमने इन पत्थरों की उम्र पता की, तो पता चला कि ये पत्थर उस बलुई धरातल से कहीं ज्यादा पुराने हैं, जिस पर ये मौजूद हैं।’ ये पत्थर करीब 7000 साल पुराने हैं, वहीं जिस बलुई धरातल पर ये मौजूद हैं वह महज 4000 साल पुराना है।

चैनल का दावा है कि इस स्टडी से स्पष्ट होता है यह ढांचा प्राकृतिक तो नहीं है, बल्कि इंसानों द्वारा बनाया गया है। चैनल के मुताबिक, कई इतिहासकार मानते हैं कि इसे करीब 5000 साल पहले बनाया गया होगा और अगर ऐसा है, तो उस समय ऐसा कर पाना सामान्य मनुष्य के लिहाज से बहुत बड़ी बात है।

You may also like

जनरल रावत के बयान पर चीन फिर डकराया

जनरल रावत के बयान पर चीन फिर डकराया

नई दिल्ली। जनरल रावत के बयान पर चीन फिर डकराया […]

read more
आतंकियों ने अफगानिस्तान में भारतीय दूतावास पर रॉकेट अटैक किया

आतंकियों ने अफगानिस्तान में भारतीय दूतावास पर रॉकेट अटैक किया

काबुल। आतंकियों ने अफगानिस्तान में भारतीय दूतावास पर रॉकेट अटैक […]

read more
मोदी के साथ इजरायली पीएम योग भी करने को तैयार 

मोदी के साथ इजरायली पीएम योग भी करने को तैयार 

नई दिल्ली। मोदी के साथ इजरायली पीएम योग भी करने को तैयार […]

read more

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *