• गुजरात चुनाव: चर्च बोला राष्ट्रवादी ताकतों को हराओRead More
  • प्रोसैस के साथ उत्पाद की डिजाईनिंग पर भी ध्यान देंRead More
  • ‘पद्मावती’ विवाद से दुखी युवती ने कर ली खुदकशीRead More
  • कार्यकर्ता मंडल स्तर पर कार्यक्रमों को मजबूत करें: जोशीRead More
  • पद्मावती विवाद खूनी हुआ? किले पर शव लटकायाRead More

फोटो पत्रकारों पर लाठीचार्ज की निंदा 

फरीदाबाद। फोटो पत्रकारों पर लाठीचार्ज की निंदा – गुरूग्राम के रयान स्कूल के छात्र प्रदुमन मामले में प्रदर्शन के दौरान मीडिया कर्मियों पर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज करने को लेकर  फोटोजर्नलिस्ट को निशाना बनाने वाले पुलिसकर्मियों को बर्खास्त किया जाए। फोटो जर्नलिस्ट एसोसिएशन फरीदाबाद के अध्यक्ष सुभाष शर्मा ने यह मांग की है।

फोटो पत्रकारों पर लाठीचार्ज की निंदा

सुभाष शर्मा ने बताया कि पुलिसकर्मियों ने फोटो जर्नलिस्टों पर लाठीचार्ज किया। जिसमें कई फोटो जर्नलिस्ट को चोट आई और उनके कैमरे टूट गए। ऐसी घटनाएं  पहली बार नहीं हुई है। हरियाणा में कई बार ऐसी घटनाएं फोटोजर्नलिस्ट के साथ होती रही है। सरकार इस पर ध्यान दें और जिनको चोट आई है और कैमरे टूटे हैं। उनको  मुआवजा दिया जाए। ऐसे पुलिसकर्मियों को बर्खास्त करें।
सुभाष शर्मा, संदीप घटवाल और गौरव चौधरी ने पत्रकारों पर हुए दुर्व्यवहार की कड़ी निंदा करते हुए सरकार से उच्चस्तरीय जांच करने की मांग की है।

वर्किंग जर्नलिस्ट आफ इंडिया

वर्किंग जर्नलिस्ट आफ इंडिया के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनूप चौधरी और प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने रेयान इन्टरनेशनल स्कूल के बाहर अविभावकों के प्रदर्शन की कवरेज कर रहे पत्रकारों पर लाठीचार्ज करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज कर सख्त कार्यवाही की मांग की है। इन दिनों पुलिस अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए मीडिया को निशाने पर ले रही है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है। वर्किंग जर्नलिस्ट आफ इंडिया इसकी निंदा करते हैं। हम गुडग़ांव के पीड़ित पत्रकारों के साथ खड़े हैं।

आल इंडिया स्माल एंड मीडियम  न्यूज पेपर

लाठीचार्ज की निंदा करते हुए आल इंडिया स्माल एंड मीडियम  न्यूज पेपर फेडरेशन के प्रांतीय अध्यक्ष हरपाल सिंह यादव ने कहा है कि फोटो पत्रकारों को निशाना बनाने वाले पुलिसकर्मियों को बर्खास्त किया जाए और साथ ही कानूनी कार्यवाही करते हुए सजा दी जाये। पुलिसकर्मियों ने फोटो जर्नलिस्टों पर बर्बरता पूर्वक लाठीचार्ज कर दिया था। जिसमें कई फोटो पत्रकारों को चोटें आई और उनके कैमरे टूट गए। ऐसी घटना पहली बार नहीं हुई है। भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिये पत्रकार कानून बनाया जाये। ताकि पत्रकारों के साथ ऐसी घटनायें घटित न हों।

You may also like

कार्यकर्ता मंडल स्तर पर कार्यक्रमों को मजबूत करें: जोशी

कार्यकर्ता मंडल स्तर पर कार्यक्रमों को मजबूत करें: जोशी

फरीदाबाद। कार्यकर्ता मंडल स्तर पर कार्यक्रमों को मजबूत करें: जोशी […]

read more
डीएलएफ के कारखाने में रहस्यमयी अग्निकांड, पत्रकारों से हाथापाई

डीएलएफ के कारखाने में रहस्यमयी अग्निकांड, पत्रकारों से हाथापाई

फरीदाबाद। डीएलएफ के कारखाने में रहस्यमयी अग्निकांड, पत्रकारों से हाथापाई […]

read more

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *